OUR TEAM

wHO WE ARE

Meet The Team

पुष्यमित्र

पुष्यमित्र पेशे से स्वतंत्र पत्रकार और लेखक हैं। लेखन के जरिये हासिल आय से ही आजीविका चलाना और अपने लेखन से बिहार के बदलाव में सार्थक हस्तक्षेप करना इनका ध्येय है। इन्होंने नवभारत, लोकायत, अमर उजाला, हिंदुस्तान, अंग भारत और प्रभात खबर मीडिया संस्थान में अपनी सेवाएं दी हैं। इनकी अब तक तीन पुस्तकें रेडियो कोसी, चंपारण-1917 और रुकतापुर प्रकाशित हो चुकी हैं। इन्हें सीएसडीएस, झारखंड सरकार और भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय का फेलोशिप मिल चुका है। फिलहाल न्यूज क्लिक, न्यूज 18, नवभारत गोल्ड, डाउन टू अर्थ आदि वेबसाइटों और गणादेश और मिथिला दर्शन पत्रिका के लिए नियमित लेखन करते हैं। वे संस्था के मैनेजिंग ट्रस्टी हैं।

डॉ अखिलेश कुमार

अखिलेश कुमार फिलहाल पटना साइंस कॉलेज में व्याख्याता हैं। वे इससे पहले छह साल बिहार पुलिस सेवा में डीएसपी की नौकरी कर चुके हैं। शिक्षा, समाजसेवा और राजनीति में सीधा हस्तक्षेप करने के इरादे से इन्होंने डीएसपी की नौकरी से त्यागपत्र देकर व्याख्याता की नौकरी ज्वाइन की है। ये छात्रों और युवाओं से लगातार जुड़े रहते हैं। बिहार विधानसभा चुनाव, 2020 में इन्होंने अपने गृह क्षेत्र नरपतगंज विधानसभा से चुनाव भी लड़ा है। सामाजिक बदलाव इनका मुख्य ध्येय है। वे उच्च शिक्षा से जुड़े छात्रों का नियमित मार्गदर्शन करते हैं और राजनीतिक सवालों को लेकर जागरूक रहते हैं। अखिलेश सीआरडी ट्रस्ट के संस्थापक सदस्य हैं।

रजनीश कुमार

रजनीश कुमार का शिक्षा से नियमित जुड़ाव रहा है। वे लंबे समय से एक कोचिंग संस्थान का संचालन करते रहे हैं और इसके जरिये युवाओं को न सिर्फ नौकरी हासिल करने का स्किल उपलब्ध कराते हैं, बल्कि उनमें सामाजिक बदलाव की सोच डालने का भी प्रयास करते हैं। कोचिंग के अलावा सामाजिक कार्यों में भी इनकी गहरी रुचि रही है। पटना जलजमाव के वक्त इन्होंने लोगों की मदद करने के काम में अपना योगदान दिया। कोरोना लॉकडाउन के वक्त भी इन्हें प्रवासी मजदूरों की खूब मदद की। वे सरकारी नौकरी के सवाल पर भी काफी मुखर रहते हैं और यह दबाव बनाने की कोशिश करते हैं कि आवेदन से रिजल्ट तक युवाओं को कोई परेशानी न हो। वे संस्थापक ट्रस्टी हैं।

सत्यम कुमार झा

सत्यम स्वतंत्र पत्रकार हैं और स्वतंत्र सोच के युवा हैं। इन्होंने इतिहास विषय से पीजी की पढ़ाई करने के बाद बिहार के दूर-दराज के इलाके में घूमकर वीडियो पत्रकारिता की है। ये बिहार कवरेज नामक वेबपोर्टल का संचालन करते हैं, इसके अलावा यूथ की आवाज और दूसरे मीडिया संस्थानों के लिए नियमित रिपोर्ट भेजते हैं। इन्हें एक संस्था से मीडिया फेलोशिप भी मिला है। सत्यम पटना में सामाजिक रूप से भी सक्रिय हैं। विभिन्न साहित्यिक और कलात्मक आयोजनों में सहयोग करते हैं। चमकी बुखार औऱ पटना जलजमाव के दौरान इन्होंने युवाओं की टीम का नेतृत्व किया और दोनों अभियान को कुशलतापूर्वक अंजाम दिया। सीआरडी ट्रस्ट के विभिन्न अभियानों में सक्रिय योगदान देते हैं। वे ट्रस्ट के ट्रेजरार हैं।

सोमू आनंद

सोमू ट्रस्ट के सदस्यों में सबसे युवा हैं। 2020 में इन्होंने मॉस कम्यूनिकेशन्स की पढ़ाई पटना विवि से पूरी की है। अपनी पढ़ाई के दौरान ही इन्होंने चमकी बुखार, पटना जलजमाव, कोरोना लॉकडाउन आदि अवसरों पर सक्रिय भूमिका निभायी है और सत्यम की तरह ही टीम का नेतृत्व किया है। 2019 से ही ये सक्रिय पत्रकारिता कर रहे हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में भी इन्होंने मचान नामक मीडिया संस्थान शुरू कर उसके बैनर तले रिपोर्टिंग की। इसके अलावा सोमू आनंद की पहचान एक कुशल आयोजन कर्ता के रूप में भी है। वे कोसी शिखर सम्मेलन का सफल आय़ोजन कर चुके हैं। इस आयोजन के जरिये उन्होंने कोसी क्षेत्र के सभी महत्वपूर्ण लोगों को एक मंच पर लाने की कोशिश की है। सोमू आनंद ट्रस्ट के सचिव हैं।

हिन्दी